सचिव का सन्देश

 

सन् 2008 ई0 में स्थापित श्री राम कॉलेज डिबाई, क्षे़त्र का एक विशालतम उत्कृष्ट महाविद्यालय है | श्री राम कॉलेज अपनी अत्यन्त गौरवमयी समृद्ध परम्पराओं को संजोये हुए अदम्य उत्साह, आत्मविश्वास, दृढ इच्छाशक्ति और संकल्पों से भरपूर पूरी जीवन्तता के साथ सफलता के नित नये आयाम छू रहा है | ज्ञान-विज्ञान की शायद ही कोई शाखा शेष हो जिसके पठन-पाठन की वयवस्था यहाँ न हो | अत्यन्त समृद्ध पुस्तकालय, विज्ञान की आधुनिकतम प्रयोगशालाओं, कंप्यूटर केन्द्र, छात्र-छात्राओं के लिए विशाल भवनों से सुसज्जित स्वंय में विशाल परिसर महाविद्यालय की भव्यता और व्यापकता की कहानी बया करने के लिए पर्याप्त है | समय-समय पर महाविद्यालय में अनेक ऐसे शिक्षाविद्, साहित्यकार, दार्शनिक, वैज्ञानिक, वकील, चिन्तक, राजनीतिज्ञ, कुशल अधिकारी एवं राष्ट्रीय स्तर के ख़िलाड़ी आते रहे है | जिन्होंने ज्ञानवान, समृद्ध, सुरक्षित एवं आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में अपनी अमिट छाप छोड़ी है | ऐसी कालजयी, सर्वसाधन सम्प, राष्ट्रीय ख्यातिलब्ध संस्था में आपने प्रवेश का निर्णय लेकर निश्चय ही अपने स्वर्णिम भविष्य की ओर सकरात्मक कदम बढाया है |

मुझे आशा ही नहीं अपितु दृढ विश्वास है कि आप अपने पठन-पाठन में तत्पर रह कर जहां एक ओर अपना भविष्य सवांरते हुए देश के सभ्य और सुसंस्कृत नागरिक बनेंगे, वही दूसरी ओर संस्था में आपकी उपस्थिति एक अनुशासित छात्र के रूप में अनुकरणीय आचरण के लिए अन्य छात्रों का मार्गदर्शन करेगी |

आप सभी से मेरा विशेष आग्रह है कि आप न तो स्वंय ऐसा कोई कार्य करेंगे और न ही अपने किसी अन्य साथी को ऐसा कोई कार्य करने के लिए प्रेरित करेंगे, जो अनुशासनहीनता की कोटि में आता हो तथा जिसके कारण महाविद्यालय की गरिमा को ठेस पहुचें और समाज में उसकी छवि धूमिल हो | मेरी अपेक्षा है कि आप सभी प्रकार के पूर्वाग्रहों, दुराग्रहों से ऊपर उठ कर महाविद्यालय के पुस्तकालयों / वाचनालयों और प्रयोगशालाओं का अधिकाधिक सृजनात्मक उपयोग करके महाविद्यालय की गरिमा और उसके समग्र विकास में यथाशक्ति अधिकतम योगदान करेंगे |

सदैव सहयोग की आशा में

प्रदीप कुमार गर्ग

सचिव